होम News Google और Facebook पर लगा तगड़ा जुर्माना, जानिए क्या हैं पूरी खबर

Google और Facebook पर लगा तगड़ा जुर्माना, जानिए क्या हैं पूरी खबर

टैगांस्की जिला अदालत ने यह फैसला सुनाया है। अदालत ने कहा है कि Google ने कई बार प्रतिबंधित सामग्री को हटाने के निर्देश की उपेक्षा की है। इसलिए कंपनी को लगभग 7.2 अरब रूबल (लगभग 9.84 करोड़ डॉलर) का जुर्माना देने का आदेश दिया गया। वहीं फेसबुक भी प्रतिबंधित सामग्री को हटाने में विफल रहीं इसलिए 1.9 अरब रूबल (2.72 करोड़ डॉलर) का जुर्माना लगाया दिया है।

- Advertisement -
Google-Facebook
img by google
  • हाइलाइट्स
  • रुस में मॉस्को की एक अदालत ने गूगल और फेसबुक पर तगड़ा जुर्माना लगाया है
  • वहां के कानून के मुताबिक गूगल और फेसबुक प्रतिबंधित सामग्री को हटाने में विफल रहीं है इस वजह से यह जुर्माना लगाया गया है
  • अदालत ने शुक्रवार को यह कह कर गूगल पर लगभग 10 करोड़ डॉलर का जुर्माना लगाया है
  • वहीं इसी तरह से फेसबुक की मूल कंपनी मेटा पर भी 2.72 करोड़ डॉलर का जुर्माना लगा दिया है

मॉस्को अदालत ने गूगल (Google) और फेसबुक (Facebook) क्या लगाया जुर्माना

यें भी पढ़े 10000 तक मोबाइल Samsung | Samsung Moblie Under Rs. 10000

- Advertisement -

मॉस्को रूस में एक अदालत ने गूगल (Google) पर 10 करोड़ डॉलर और फेसबुक (Facebook) पर 2.72 करोड़ डॉलर का जुर्माना लगाया दिया। बता दे की इसकी वजह एक है की दोनों ही कम्पनी की गलती बताई जा रहीं है मॉस्को की इस अदालत का कहना है की Google और Facebook दोनों कम्पनी को प्रतिबंधित सामग्री को हटाने को कहा गया था, दोनों कम्पनीयों इससे हटाने में विफल रहीं इस की वजह से गूगल और फेसबुक पर यह जुर्माना लगाया गया है।

कहां की अदालत ने लगाया जुर्माना
आपको बता दें की यह मामला टैगांस्की जिला अदालत ने यह फैसला सुनाया है। अदालत ने कहा है कि गूगल ने बार-बार प्रतिबंधित सामग्री को हटाने के निर्देश की उपेक्षा की। इसलिए कंपनी को लगभग 7.2 अरब रूबल (लगभग 9.84 करोड़ डॉलर) का जुर्माना देने का आदेश दिया गया है। बता दें यह मामला शुक्रवार को ही अदालत ने मेटा पर भी प्रतिबंधित सामग्री को हटाने में विफल रहने के लिए 1.9 अरब रूबल (2.72 करोड़ डॉलर) का जुर्माना लगाया दिया है।

- Advertisement -

क्या कहना है गूगल का
गूगल ने यह कहा है कि वह अदालत के आदेश का अध्ययन करेगा। उसके बाद ही वह अपने अगले कदम पर फैसला करेगा। उल्लेखनीय है कि रूसी अधिकारियों ने नशीली दवाओं के दुरुपयोग, हथियारों और विस्फोटकों जैसी संबंधित सामग्री को हटाने में विफल रहने का आरोप लगाते हुए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर लगातार दबाव बढ़ाया है।

टेक कंपनियों को दोषी ठहराया
इस साल की शुरुआत में ही रूसी अधिकारियों ने जेल में बंद रूस सरकार के आलोचक एलेक्सी नवलनी के समर्थन में विरोध के बारे में घोषणाओं को नहीं हटाने के लिए प्रौद्योगिकी कंपनियों को दोषी ठहराया था। वहीं अब रूसी अदालतें इस साल गूगल, फेसबुक और ट्विटर पर छोटे जुर्माना लगा चुकी हैं।

यें भी पढ़े गूगल, फेसबुक पर लगा तगड़ा जुर्माना, जानें क्या है मामला

- Advertisement -

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest Post

ADS

General News